सुरेश पचौरी 
स्वर्गीय राजीव गांधी ऐसी विभूतियों में से एक हैं जिनका स्मरण हमें आलोकित करता है एवं हमारा मार्ग प्रषस्त करता है। राजीव गांधीजी आज इस दुनिया में भले ही नहीं हैं, लेकिन लोकप्रिय जननेता और प्रधानमंत्री के रूप में देश को विकास पथ पर ले जाकर अंतरराष्ट्रीय जगत में उन्होंने भारत को जो पहचान और ऊँचाई दिलाई, वह इतिहास के पन्नों पर स्वर्णिम अध्याय के रूप में अंकित है। उन्होंने भारत को आधुनिक, खुषहाल और मजबूत राष्ट्र बनाने में विषेष भूमिका निभाई। 

राजीव गांधी भारत के समग्र विकास के प्रति संकल्पबद्ध राजनेता थे। भारत को तेजी से तरक्की के रास्ते पर आगे बढ़ाने के लिए उन्होंने सार्थक प्रयास किये। राजीव गांधी जी का व्यक्तित्व विराट था। राष्ट्रहित उनके चिन्तन का प्रमुख हिस्सा था। सर्व धर्म सद्भाव की भावना उनके मानस में रची बसी थी। राजीव गांधी के व्यक्तित्व में परंपरा और आधुनिकता का मणिकांचन योग था। 

 

 

श्री राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर विशेष 

राजीव गांधी एक सच्चे लोकतंत्रवादी थे, एक ऐसे व्यक्ति थे जो सदा नये विचारों और रचनात्मक आलोचनाओं का स्वागत करते थे। एक सांसद, प्रधानमंत्री, कांग्रेस अध्यक्ष एवं नेताप्रतिपक्ष के रूप में उन्होंने जो भी भूमिका निभाई, सभी में अपनी कार्यकुषलता की अमिट छाप छोड़ी। 

सांप्रदायिकता के खिलाफ राजीवजी की दृष्टि और दिषा दोनों बहुत स्पष्ट थी। राजीवजी ने लगातार फिरकापरस्त ताकतों, घृणा, आतंकवाद, अषिक्षा एवं गरीबी के खिलाफ संघर्ष किया। धर्म निरपेक्षता के पक्षधर राजीव गांधी अहिंसा, सौहार्द और शांति के अग्रदूत थे। राजीव गांधी कौमी एकता और सद्भाव को देश की सांस्कृतिक अस्मिता और गौरवशाली विरासत की धुरी मानते थे। वे जाति, धर्म और सम्प्रदाय के संकीर्ण दायरे से देश को उबारना चाहते थे। उनका प्रयास था कि भारत पारस्परिक सद्भावना का एक ऐसा गुलदस्ता बने जो महात्मा गांधी, पंडित नेहरू और श्रीमती इंदिरा गांधी के दिखाए मार्ग पर चलकर नवनिर्माण के साथ विकास की मंजिल की ओर निरन्तर बढ़ता रहे। राजीवजी ने कभी भी बदले या द्वेष की भावना की राजनीति नहीं की। द्वेष शब्द तो उनकी डिक्षनरी में शायद था ही नहीं। 

राजीव गांधी भारत में सूचना प्रौद्योगिकी के प्रथम सूत्रधार थे। आज जिस डिजिटल इंडिया की बात पूरे देष में हो रही है, उसकी आधारषिला श्री राजीव गांधी ने ही रखी है। उन्होंने संचार क्रांति का शंखनाद किया। वे देष में कम्प्यूटर क्रांति के जनक बने। राजीव जी का विष्वास था कि भारत का भविष्य विज्ञान और प्रौद्योगिकी में निहित है। राजीवजी उच्च तकनीकी को गरीबी उन्मूलन का उपकरण मानते थे। उनकी सोच में ऐसे उन्नत भारत की तस्वीर थी, जिसे सूचना प्रौद्योगिकी के द्वारा ही सँवारा जा सकता है। विकसित राष्ट्रों तक ने हमारी टेक्नोलाॅजी को न केवल स्वीकार किया बल्कि उसकी उच्च गुणवत्ता को विश्व स्तर पर सराहा गया। इसके अलावा उन्होंने जैव प्रौद्योगिकी, परमाणु ऊर्जा, पर्यावरण आदि क्षेत्रों में नये कार्यक्रमों को बढ़ावा दिया। पेयजल, खाद्यान्न, दूरसंचार, कृषि और औद्योगिक क्षेत्रों में भी प्रगति हेतु विभिन्न टेक्नोलाॅजी मिशन गठित किए।

राजीव जी के मन में गरीबों के प्रति सच्ची हमदर्दी थी। वे एक ऐसे समाज की स्थापना के लिए आतुर थे जिसमें सब बराबरी के साथ अपनी जिन्दगी जियें और स्वाभिमान के साथ अपना गुजर-बसर कर सकें।

राजीव गांधी ने समय की चुनौतियों को समझने एवं उसके मुताबिक देश को आगे ले जाने का साहसिक प्रयास किया। उन्हें नौजवानो की क्षमता और विवेक पर पूरा भरोसा था। राजीव गांधी ने नौजवानों को 18 वर्ष की उम्र में उन्हें मताधिकार दिलाकर उनकी सत्ता में भागीदारी सुनिश्चित की।

श्री राजीव गांधी का मानना था कि किसान हमारे देष की रीढ़ हैं। खेती-किसानी की तरक्की के बिना देष की तरक्की संभव नहीं है। राजीवजी ने सातवीं पंचवर्षीय योजना में कृषि में ज्यादा पूंजीनिवेष का प्रावधान किया। कृषि में उत्पादकता बढ़ाने के लिए जल संसाधनों के बेहतर इस्तेमाल पर जोर दिया। इसी का परिणाम था कि उनके प्रधानमंत्रित्व काल में खाद्यान्नों का रिकार्ड उत्पादन हुआ। राजीवजी ने हरितक्रांति की समीक्षा की और यह पाया कि हरितक्रांति से गेहूं का उत्पादन तो काफी बढ़ा है, परंतु तिलहन और दलहन के क्षेत्र में  अपेक्षित सुधार नहीं हुआ है। उन्होंने तिलहन का उत्पादन बढ़ाने के लिए तिलहन टेक्नोलाॅजी मिषन बनाया। दलहन के लिए राष्ट्रीय परियोजना शुरू की।

राजीवजी ने अपने निष्कलंक, सार्वजनिक और राजनीतिक जीवन में जिस भी भूमिका का निर्वहन किया, उसमें वे पूर्ण रूप से कुंदन की तरह खरे उतरे। राजीवजी ने  जनमानस में सर्वप्रिय जननेता की अमिट छाप छोड़ी।

ऐसे युग पुरुष का जीवन, उनकी शहादत और स्मृतियाँ हमेषा देष के लिये प्रेरणा का स्रोत रहेंगी। राजीव जी के आदर्षों से प्रेरणा लेकर उनके विचारों को देष के कोने-कोने में पहुँचाना ही राजीवजी के प्रति हमारी सच्ची श्रद्धांजलि होगी। 

(लेखक भारत सरकार में रक्षा उत्पादन, कार्मिक एवं संसदीय कार्य राज्य मंत्री रहे हैं)
 

Source : सुरेश पचौरी, रक्षा उत्पादन, कार्मिक एवं संसदीय कार्य राज्य मंत्री